Tuesday, May 25, 2010

न बुझने बाली प्यास....













जो
कभी बुझती ही नहीं , लगी है ऐसी प्यास,

शायद मेरे दिल को अब भी है , तेरे आने की आस.