Friday, May 14, 2010

महंगाई की मार ..............
















हाय
री महंगाई तूने क्या गज़ब कर डाला ....

आम आदमी की जेब का निकाल दिया दिवाला....
निकाल दिया दिवाला, कुछ भी समझ न आए.....
महंगाई तेरी मार से, ग़रीब सिसक-2 रह जाए।