Saturday, May 15, 2010

बेरोज़गार.......














कुछ
करने की ललक, कुछ पाने की चाह....

और सीने में दफ़न, उनके अरमान अथाह....
हर पल टूटते सपने, और मुश्किलें बेशुमार....
यही है ज़िन्दगी उनकी, जो हैं बेरोज़गार।

2 comments:

  1. आज की दुनिया का कटु शाश्वत वास्तविक सत्य ..

    ReplyDelete