Saturday, April 17, 2010

जुदाई का दर्द












जुदाई  में ज़िंदगी  बड़ी तन्हा होती है।

दिल रोता है, आँखों में नींद नहीं होती है। 
कहने को  तो बीच में दूरियाँ होती हैं,
पर क्या करें उन यादों का ,जो हर पल साथ होती हैं।







No comments:

Post a Comment